Tuesday, 1 September 2009

ये ब्लोगर कौन हैं ? (अन्तिम भाग)

------- बताइए ये ब्लोगर कौन हैं? -------
---------------------------------------------------
पहेली 29 का सही हल- श्री राज भाटिया
----------------------------------------------------
विजेता हैं- श्री मोहन वशिष्ठ (आपको बहुत-बहुत बधाई)
---------------------------------------------------
इनके जवाब भी सही हैं- श्री अलबेला खत्री , संगीता पुरी, अजय कुमार झा, एम् वर्मा, समीर लाल, अविनाश वाचस्पति, सीमा गुप्ता, पंडित डी.के.शर्मा "वत्स" !
---------------------------------------------------
दोस्तों आज पहेली अपने अन्तिम पडाव पर है, कल ११ से १२ बजे इसका (पहेली-३०) परिणाम घोषित कर दिया जाएगा (दिन में)! कल रात ९ से १० बजे १५००/- के विजेता का नाम घोषित करेंगे पूरी धूमधाम के साथ , तो कल का इन्तजार करें, विजेता का नाम तय हो चुका है, बस घोषणा बाकी है! आपने इस पहेली को काफी ऊँचा स्थान दिलाया है,सबसे पहले मैं श्री अलबेला खत्रीजी का दिल से शुक्रगुजार हूँ,जिन्होंने पहेली में पुरस्कार की घोषणा कर इसे एक दिशा दी..अल्बेलाजी का बहुत-बहुत आभार! और श्री समीर लालजी, अविनाश वाचस्पति, संगीता पुरी, सीमा गुप्ता,एम् वर्मा,शेफाली पांडे, राजीव तनेजा, डी,के. शर्माजी, अजय झा, श्यामल सुमन, राज भाटिया, इन सभी का भी मैं आभारी हूँ,इन्होने पहेली से लगातार नाता बनाये रखा! तो दोस्तों कल का करें इन्तजार..कौन होगा १५००/- का विजेता ???????
-----------------------------------------------------

18 comments:

  1. मोहन वशिष्ठ जी को बधाई !

    __________ये आखरी का मतलब क्या है भाई ?

    थक गए क्या ब्लॉगर का मेकप करते- करते ?

    ReplyDelete
  2. अलबेला भाई, आखरी का मतलब है, ३० ब्लोगों की आखरी कड़ी, मैं थका नहीं हूँ, इसे नए अंदाज से फिर शुरू करना है, कुछ नियम बदलने हैं,आपसे सलाह लेनी है, ताकि आगे किसी तरह का लोचा ना रहे, इन सब परिक्रिया के बाद ही फिर से शुरू करना चाहता हूँ, सो दो-चार दिन के बाद फिर शुरू करेंगे!

    ReplyDelete
  3. वशिष्ठ जी को बधाई !

    ReplyDelete
  4. @ महफूज अली
    सुरेश शर्मा के कार्टून्‍स नहीं
    सुरेश शर्मा के बनाये कार्टून्‍स
    वैसे आज के कार्टून को
    पहले पहचानने वाले को ही
    विजयी घोषित किया जाए।

    आखिर यह कड़ी का आखिरी
    कार्टून है और टन भर का है।

    ReplyDelete
  5. ऐसा लग रहा है
    सूटकेस में भरकर नोट
    अलबेला खत्री खोल रहा है गेट
    आ रहा है नोट लेकर
    लिख रखा है बजट
    बिना करे खट खट।

    अलबेला खत्री की ही लग रही है नाक
    जो दिख नहीं रही है वह भी लग रही है आंख

    ReplyDelete
  6. मोहन वशिष्ठ जी को बधाई

    ReplyDelete
  7. मनमोहन जी को बधाई देना तो भूल ही गया।

    ReplyDelete
  8. भाई आप को जो करना हो करो ,
    लेकिन ये दो-चार दिन का गैप मत करो.........

    अगर आपकी तबीयत अच्छी है
    तो हमारी भी नीयत अच्छी है

    दो बातें नोट कर लो....
    क्योंकि हो सकता है बाद में सम्पर्क न हो सके...

    एक तो सम्भावित विजेताओं के खाते में सीधे राशि जमा कराने के लिए उनसे उनका बैंक खाता क्रमांक
    मालूम कर लो और दूसरा प्रत्येक विजेता के लिए प्रमाण-पत्र की व्यवस्था करनी है ।

    ये दो काम आप करलो, तीसरा काम मैंने ये कर दिया है कि एक विशेष पुरस्कार 1100 रूपये का और
    स्वीकृत कर दिया है । साथ ही मेगा पुरस्कार रूपये 5555 का शुरू करेंगे जो कि वार्षिक होगा ...
    इस पुरस्कार में वे लोग शामिल होंगे जिन्होंने सर्वाधिक बार सही पहचाना ।

    एक बात ये हो सकती है कि आप सही जवाब वाली टिप्पणियों को यदि थोड़ी देर रोक लें तो और उत्सुकता बनी रहेगी....वरना एक ने पहचाना तो बाकी को खाली हाँ में हाँ ही मिलानी होती है उसमे इतना मज़ा नहीं रहता .......

    बाकी आप सब से राय मांगलो...........जैसा लोग कहें , वैसा कर लेंगे.......

    क्यों ठीक है ना ठीक ?

    ReplyDelete
  9. महफूज भाई, आपको मेरे कार्टून अच्छे लगते है,जानकार ख़ुशी हुई, ये ब्लॉग एक माह से रोज आ रहा था, आप आज आये हैं, अंतिम दिन ! चलिए अब आपसे निवेदन है फिर से ३० ब्लोगों की कडियाँ शुरू होंगी, आप रोज आना !आपका धन्यवाद !

    ReplyDelete
  10. मोहन वशिष्‍ठ जी को बधाई .. इस श्रृंखला की शुरूआत भी अलबेला खत्री जी से और .. अंत भी उन्‍हीं से .. बहुत बढिया !!

    ReplyDelete
  11. ये अंतिम भाग वाली बात पे मज़ा नही आया।मेरे खयाल से ये दिलीप कवठेकर हैं।

    ReplyDelete
  12. ताऊ तो हो नही सकता, क्योकि वो तो लाखो मै पहचान मै आजाये... चलिये हम भी मोहन वशिष्‍ठ जी को बधाई दे देते है

    ReplyDelete
  13. कौन हो भाई?? दिलीप कवठेकर??

    ReplyDelete
  14. मोहन वशिष्ठ जी को बधाई . ये आज के ब्लोगेर कौन है पहचान ही नहीं आ रहे.....????

    regards

    ReplyDelete
  15. अलबेला जी की बात ठीक है इस तरह की पहेलियों के उत्तर, मॉडेरेशन लगा कर पोस्ट प्रकाशित होने के अगले 24 घंटों तक रोक देना चाहिए, और फिर पूरी गठरी एक साथ खोलनी चाहिए

    वैसे यह प्रयास सराहनीय है

    ReplyDelete
  16. अरे सर ये क्‍या आज पहली बार तो मैं इस पहेली में अपना फोटो देख पाया हूं और आज का चरण समाप्‍त हो गया। वैसे सच में आपकी पहेली ने अब दीबाना बना दिया है लेकिन आज के जवाब के बारे में बहुत कन्‍फयूज हो गए हैं लेकिन कहना पड रहा है कि अलबेला जी स्‍वयं ही आज ड्रम बजाते नजर आ रहे हैं पेज में और कार्टून भी बनवा लिया हा हा हा मेरा जवाब अल्‍बेला जी

    ReplyDelete